Jaipur Educationist Shipra Bhutani Now Taught As a Case Study In Universities

Jaipur. Jaipur's educationist, Shipra Bhutani reached a new high in her career when she has been identified to be taught as a 'case study' in some of the leading universities of the country like Lovely Professional University (Jalandhar, Punjab), JK Laxmipat (Jaipur, Rajasthan) and Institute of Business Management & Research (IBMR Indore, Madhya Pradesh).

Professors from the above three institutes had visited the Jaipur-based Quantum Career Academy, where Bhutani is the Director. After seeing her considerable work in the field of education, they chose to develop case studies on her.

These studies are now registered with the Case Research Society of India.

 

The two cases which have been  developed on Bhutani, an alumnus from Pilani-based Birla Balika Vidyapeeth  and IIM Calcutta are   "From Local to Global"  and "The Quantum of Rajasthan". These studies are now being taught at all the three institutes based in Jalandhar, Jaipur and Indore. In fact, they have become a part of the curriculum there. 

In just four years Bhutani has won seven awards including Zonal Performance Award by Annamalai University in 2009-10 and ISB-GOLDMAN SACHS 10K women entrepreneurship award, among others.

 

Under the Public Private Partnership Scheme -- the Government of India has appointed her as a Chairperson for the 3 Industrial Training Institutes (ITIs) at Balotra (Jodhpur), Dungarpur (Udaipur) and Dausa. She is also a member of Rajasthan State Council and Education Panel of Confederation of Indian Industries (CII), AIESEC and an active member of The Indus Entrepreneurs (TiE).

 

Married and a mother of two children – Bhutani dexterously blends her personal and professional life. She said that for a Indian woman, specially in a state like Rajasthan, it is extremely difficult to start and then sustain a business – since there is no private or government support. What I have achieved is through my hard work and perseverance.

एक्सचेंज प्रोग्राम ऐसा हो तो...क्या कहना!


पिछले दिनों एक शख्सियत से रूबरू होने का मौका मिला। जिस पद की गरिमा वो बढ़ा रहे हैं उनके विचार उससे भी गौरवांवित महसूस हुए। उन्होंने वर्तमान एजुकेशन मॉडल से जुड़ा ऐसा सुझाव दिया जिसे इम्प्लिमेंट किया जाए तो ग्रामीण और शहरी स्कूल एजुकेशन की दशा और दिशा दोनों बदल सकते हैं। ये आइडिया है अनूठे एक्सचेज प्रोग्राम का, और आइडिया देने वाले हैं राजस्थान हाईकोर्ट के Honorable Justice Jainendra Kumar Ranka.जस्टिस के अनुसार शहरी स्कूलों में शिक्षा,सुविधाएं और संभावनाएं अधिक हैं जबकि सुविधाओं के अभाव में भी ग्रामीण स्कूली बच्चों का आत्मविश्वास देखते ही बनता है। अभावों में पल-बढ़ रहे ग्रामीण बच्चों में भी प्रबल जिज्ञासा है, वे भी प्रगति की ऊंची उड़ान भरने को तैयार हैं। ऐसे में यदि उन्हें शहरी उन्नत शिक्षण संस्थान से एक्सचेंज प्रोग्राम के जरिए एक दिशा मिले तो राष्ट्र निर्माण में उनकी भूमिका अधिक सार्थक साबित होगी। दरअसल, जस्टिस चाहते हैं कि शहर के बड़े स्कूल और ग्रामीण स्कूलों के बीच एक कल्चरल एक्सचेंज प्रोग्राम शुरू हो। इस के तहत ग्रामीण बच्चें शहर के इन स्कूलों में आकर,यहां के बच्चों के साथ रहकर कुछ नया सीख सकेंगे। वहीं शहरी बच्चें भी ग्रामीण परिवेश को करीब से जान पाएंगे। उल्लेखनीय है कि वर्तमान में शहर के बड़े स्कूल कल्चरल एक्सचेंज के तहत विदेशी स्कूलों के बच्चों को अपने यहां बुलाते हैं और यहां के स्टूडेंट विदेश के स्कूल और सोसाइटी से रूबरू होते हैं। जस्टिस के भाषण के वे अंश जिनमें वे ऐसे एक्सचेंज प्रोग्राम की पूर जोर वकालत कर रहे हैं। यह विचार उन्होंने हाल ही एक स्कूल के वार्षिकोत्सव में वक्त किए थे।- Mahatma Gandhi father of the spirit country. used to say in his morning prayer, oh God! unable me to me taking first step in right direction. the rest will follow. Dear students take first step in the right direction. then what is right direction? will be thought you by your dear teachers and your dear parents. your inner conscious will tell behind every good happening there are 5 essentials ...noble purpose, dedicated person, infrastructure sources, support from destiny and talentless effort. You and me are unfortunate that we have everything in command, the best of food, best of cloths, the best of medicine and best of education and what want. But look at the people who live in villages, where there is heartily in an electricity, water, a good education, and if you move out beyond 40 km from any city we can see how people live, see the life of the people.... I would suggest you(institution) must try to have an exchange program for student of our institution with the student of the villages. so, they can also learn from you a lot. Yesterday only i was at sardarshahar in a village. where more then 400-500 student come to a function, where i could really visualize how the students of villages hope full and the enthusiasm and full of confidence, strong build but they lake something which we are. getting in the city or gaining in the city. therefore, some exchange cultural program should be there for student of villages, so, they also and come up in life. and come up to the exceptions of the great country. I would just suggest,that this may be consider by Mr. Gupta(Dr. Ashok Gupta, Director of India International School). who is as it is very dynamic person, and who can do wonders and has wonders in this field, naturally after a great Strength which we have. he must take it initiative and getting to the villages and helping the students of those villages.

एक्सचेंज प्रोग्राम ऐसा हो तो...क्या कहना


पिछले दिनों एक शख्सियत से रूबरू होने का मौका मिला। जिस पद की गरिमा वो बढ़ा रहे हैं उनके विचार उससे भी गौरवांवित महसूस हुए। उन्होंने वर्तमान एजुकेशन मॉडल से जुड़ा ऐसा सुझाव दिया जिसे इम्प्लिमेंट किया जाए तो ग्रामीण और शहरी स्कूल एजुकेशन की दशा और दिशा दोनों बदल सकते हैं। ये आइडिया है अनूठे एक्सचेज प्रोग्राम का, और आइडिया देने वाले हैं राजस्थान हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस। जस्टिस के अनुसार शहरी स्कूलों में शिक्षा,सुविधाएं और संभावनाएं अधिक हैं जबकि सुविधाओं के अभाव में भी ग्रामीण स्कूली बच्चों का आत्मविश्वास देखते ही बनता है। अभावों में पल-बढ़ रहे ग्रामीण बच्चों में भी प्रबल जिज्ञासा है, वे भी प्रगति की ऊंची उड़ान भरने को तैयार हैं। ऐसे में यदि उन्हें शहरी उन्नत शिक्षण संस्थान से एक्सचेंज प्रोग्राम के जरिए एक दिशा मिले तो राष्ट्र निर्माण में उनकी भूमिका अधिक सार्थक साबित होगी। दरअसल, जस्टिस चाहते हैं कि शहर के बड़े स्कूल और ग्रामीण स्कूलों के बीच एक कल्चरल एक्सचेंज प्रोग्राम शुरू हो। इस के तहत ग्रामीण बच्चें शहर के इन स्कूलों में आकर,यहां के बच्चों के साथ रहकर कुछ नया सीख सकेंगे। वहीं शहरी बच्चें भी ग्रामीण परिवेश को करीब से जान पाएंगे। उल्लेखनीय है कि वर्तमान में शहर के बड़े स्कूल कल्चरल एक्सचेंज के तहत विदेशी स्कूलों के बच्चों को अपने यहां बुलाते हैं और यहां के स्टूडेंट विदेश के स्कूल और सोसाइटी से रूबरू होते हैं। जस्टिस के भाषण के वे अंश जिनमें वे ऐसे एक्सचेंज प्रोग्राम की पूर जोर वकालत कर रहे हैं। यह विचार उन्होंने हाल ही एक स्कूल के वार्षिकोत्सव में वक्त किए थे। Mahatma Gandhi father of the spirt country. used to say in his morning prayer, oh God! unable me to me taking first step in right direction. the rest will follow. Dear students take first step in the right direction. then what is right direction? will be tought you by your dear teachers and your dear parents. your inner councious will tell behinde every good happning there are 5 essencials ...noble purpose, dedicated person, infrastructor sources, support from destiny and telentless effort. You and me are unfoutunate that we have everything in comand, the best of food, best of cloths, the best of medicine and best of eduction and what want. But look at the people who live in villages, where there is heartly in an electricity, water, a good eduction, and if you move out byond 40 km from any city we can see how people live, see the life of the people.... I would suggest you(institution) must try to have an exchange programe for student of our institution with the student of the villages. so, they can also learn from you a lot. Yesterday only i was at sardarshahar in a village. where more then 400-500 student come to a function, where i could really visualise how the students of villages hope full and the anthiazmes and full of confidance, strong build but they lake something which we are. getting in the city or gaining in the city. therefore, some exchange cultural programe shold be there for student of villages, so, they also and come up in life. and come up to the expections of the great contry. I would just suggest,that this may be considerd by Mr. Gupta(Dr. Ashok Gupta, Dirctor of India Internation School). who is as it is very dianamic person, and who can do wonders and has wonders in this fild, naturaly after a great stainth whitch we have. he must take it inasitive and getting to the villages and helpping the students of those villages.

McLeod Russel Tour Championship: Randhawa on the leader’s tail

Lahiri's super 66 gives him round one lead

Kolkata. December 26, 2013: Anirban Lahiri of Bangalore fired a sizzling six-under-66 to take the round one lead at the McLeod Russel Tour Championship, the PGTI's year-ending event, being played at the Royal Calcutta Golf Club (RCGC). Gurgaon-based Jyoti Randhawa returned a five-under-67 to be on the leader's tail in second place.

Anirban Lahiri made a perfect start to the tournament by registering eight birdies against two bogeys in round one. Lahiri's putter was hot as he made birdie putts from 15 to 25 feet on the third, eighth and 17 th holes. The 26-year-old from the Eagleton Golf Resort, Bangalore, also hit it well by landing it within six feet for birdies on the ninth, 10 th and 18 th . Anirban, a winner of three titles in 2013 (one on Asian Tour and two on PGTI), capitalized on both par-5s, the fourth and 15 th ,after finding the green in two shots and setting up two-putt birdies.

Lahiri's two bogeys came as a result of his ball being plugged in the bunker on the seventh and his tee shot landing in the water hazard on the 16 th .

Lahiri said, "I holed almost everything except for one short par putt on the 16 th . The best shot of the day has to be the 25-feet downhill birdie putt on the 17 th . That putt wasn't easy to execute. I struck it well and found most fairways. The conditions were tough in the morning as it was windy. I feel a lot more comfortable at RCGC now than I was few years back.

"I've played a lot of golf with Rashid and Chikka, both of whom were my playing partners today. Therefore it was like a fun game and there was no pressure. This week the key will be to find the fairways with the tee shots as the fairways are quite narrow here. It's not easy to recover if one misses the fairway."

Jyoti Randhawa had a flurry of birdies on the front-nine to make the turn at five-under. He landed it within four feet on the first to pick up his first birdie. Randhawa then chipped-in on the third and sank 10-feet birdie putts on the fifth and sixth holes. The former Asia no. 1 who hails from the DLF Golf & Country Club, Gurgaon, added a birdie and a bogey on the back-nine.

"I had a top-5 on the Asian Tour recently. I've had some momentum going since that performance. I've been swinging well. However, my form has been a little patchy and I need to fire lower scores. I hit a lot of good shots today and putted well. It's great to be back in Kolkata since this is the city where I played my first competitive event as a sub-junior," said Randhawa.

Abhinav Lohan of Faridabad and Lucknow's Sanjay Kumar occupy joint third place at four-under-68. Lohan's bogey-free 68 featured an eagle and two birdies. His eagle on the fourth came as a result of a 40-feet conversion from the fringe. Sanjay, on the other hand, recorded five birdies and a bogey. He landed his approach shots within five feet on the first, 12 th and 17 th .

Rookies Khalin Joshi of Bangalore and Angad Cheema of Panchkula are a further shot behind in tied fifth place.

Rahil Gangjee finished round one in tied seventh place at two-under-70. He is currently the highest-placed among the professionals from Kolkata.

Gaganjeet Bhullar is in tied 13 th position at one-under-71.

Rolex Rankings leader Rashid Khan lies tied 23 rd at even-par-72.

Defending champion SSP Chowrasia is placed tied 50 th at three-over-75. His opening round featured a birdie and two double-bogeys.

मैत्री मेला २०१३

सिरसी रोड स्थित बाल भवन में २६ दिसंबर २०१३ को परिसर में शुरू हुआ संस्था का ११ वा तीन दिवसीय पूर्ण आवासीय पर्यावरण      मेले का उध्घाटन अवकाश प्राप्त डीजीपी आई पी एस  आर एस ढिल्लों ने किया

निर्देशक चरण जीत ने बताया कि पूरे दिन बच्चो ने रचनातमक खेलो के जरिये पर्यावरण से दोस्ती की  एवं वर्त्तमान मैं उनकी दशा को समझा इसके आलावा बच्चो ने कैंप फायर का भी आनंद उठाया

जवाहर कला केन्द्र में 26 को छैल बिहारी का गायन, 27 को ‘‘द पोर्ट्रेट’’

जयपुर 24 दिसम्बर। जवाहर कला केन्द्र के रंगायन सभागार में नियमित कार्यक्रम गुरूवारीय संगीत संध्या के तहत 26 दिसम्बर, 2013 को सायं 6.30 बजे प्रदेश के पूर्वांचल क्षेत्र के वरिष्ठ गायक कलाकार छैल बिहारी वर्मा मीरा, सखी श्याम, मलूक दास, कबीर, शुकदेव दास आदि की रचनाओं की प्रस्तुति से श्रोताओं को भक्ति रस से सराबोर करेंगें इनके साथ सितार-हरिहर शरण भट्ट, तबला-प्रेम प्रकाश शर्मा, वायलिन-चन्द्र प्रकाश, बासुरी - डॉ. बी.एल.शर्मा गायक कलाकार छैल बिहारी वर्मा को संगीत विरासत में मिला। 

आपने संगीत की शिक्षा पिता स्वर्गीय देवी लाल संगीतज्ञ से ली, जो कि मन्दिर श्री मदन मोहन जी, करौली की संगीत परम्परा के संवर्धक रहे। इसी श्रृंखला में संगीताचार्य शुकदेव दास तथा अपने नाना स्वर्गीय मोहन लाल (जयपुर वालों) से आपने संगीत की बारीकियां सीखी।

वर्मा का भक्ति संगीत से ज्यादा लगाव रहा है। आप दूरदर्शन, आकाशवाणी से बी-हाई ग्रेड प्राप्त कलाकार है। आपने दिल्ली, मुम्बई, जयपुर, सवाई माधोपुर, चितौड़, आकाशवाणी केन्द्रों पर प्रस्तुतियां दी है। आप पूर्वी राजस्थान के कैला 

माता के लोक भजन लांगुरिया से भी पहचान रखते है। इन्हें लांगुरिया में सिद्धहस्त होने के कारण ''लोक रंग श्री'' से सम्मानित भी किया गया है। वर्मा ने भजनों को शास्त्रीय रागों व लोक धुनो में भी समन्वित करने का प्रयास किया है। 


फ्राइडे थियेटर नाटक ''द पोर्ट्रेट'' का मंचन 


 जवाहर कला केन्द्र के रंगायन सभागार में नियमित कार्यक्रम फ्राइडे थियेटर के तहत 27 दिसम्बर, 2013 को सायं 6.30 बजे ख्यातनाम लेखक 'ओ हेनरी' द्वारा लिखे नाटक ''द पोटेर्ªट'' का मंचन किया जायेगा। नाट्य रूपान्तरण एवं निर्देशन वरिष्ठ रंगकर्मी राजेन्द्र सिंह पायल ने किया है। प्रवेश प्रतिव्यक्ति रू. 40 के टिकट से होगा।

जेजेएस की अगली थीम "रूबी- द जैम ऑफ जैम्स"

जयपुर। अगले वर्ष 20 दिसम्बर से फिर मिलने के वादे के साथ चार दिवसीय ग्यारहवें जयपुर ज्वैलरी शो (जेजेएस) का सोमवार को समापन हुआ। शो का अंतिम दिन होने की वजह से होटल राजमहल पैलेस में आयोजित इस शो में रिटेलर्स और आगामी शादी को देखते हुए आज ज्वैलरी देखने-खरीदने वालों की जबरदस्त भीड़ रही।

दिन भर विजिटर्स और एग्जीबिटर्स का उत्साह देखने लायक था। चार दिन के इस शो को 30,000 से अधिक देषी और विदेषी लोगों ने देखा।

जेजेएस के सह-संयोजक दिनेश खटोरिया ने बताया कि यह रिकॉर्ड संख्या जेजेएस के प्रति लोगों के रूझान को दर्षाती है। उन्होंने आगे जानकारी दी कि अगले वर्ष 2014 का जयपुर ज्वैलरी शो 20 से 23 दिसम्बर तक "रूबी- द जैम ऑफ जैम्स" थीम पर आयोजित किया जाएगा।

जेजेएस सचिव राजीव जैन ने बताया कि मंदी के दौर के बावजूद जयपुर ज्वैलरी शो में विजिटर्स, रिटेलर्स और विदेषी ग्राहकों ने जिस तरह से अभूतपूर्व उत्साह दिखाया, वह संतोषजनक है। जेजेएस में राजस्थान के विभिन्न शहरों व देष के प्रमुख शहरों दिल्ली, मुम्बई, अहमदाबाद, सूरत, पंजाब, चंडीगढ़, आगरा, इंदौर, हैदराबाद, कोलकाता समेत दूर-दराज के अन्य शहरों के व्यापारियों ने भी शो में माल देखा और अपनी डिमांड्स बताई। उन्होंने आगे बताया कि इस शो में ज्वैलरी की विभिन्न वैराइटीज और रेंज को प्रदर्षित किया जाता है, जो आम आदमी की रूचि के अनुरूप है। यह रत्न व आभूषण व्यवसाय में जयपुर को विषेष भी बनाता है।

जेजेएस प्रवक्ता अजय काला ने मीटिंग्स के माध्यम से व्यापारियों और रिटेलर्स ने व्यापारिक सम्भावनाओं को तलाषा। खासतौर पर जयपुर से बाहर के ग्राहकों व जौहरियों ने जेजेएस को सालाना कलैंडर में महत्वपूर्ण पड़ाव माना है।

अजय काला ने आगे जानकारी दी कि जेजेएस के दौरान हुए सौदे आगामी तीन-चार महीनों तक फाइनल होते रहते हैं। उन्होंने कहा कि जेजेएस में `ालिटी बायर्स लाने के उद्धेष्य में हम काफी हद सफल रहे हैं।

गुलाब चंद कटारिया व अरूण चतुर्वेदी ने लिया समापन समारोह में भाग जेजेएस के चौथे दिन शाम को आयोजित समापन समारोह में प्रदेष के ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज मंत्री गुलाब चन्द कटारिया तथा सामाजिक न्याय व अधिकारिता विभाग के राज्य मंत्री अरूण चतुर्वेदी ने षिरकत की। जेजेएस के अंतिम दिन आने वाले गणमान्य लोगों में ताइवान रोटरी इंटरनेषनल के प्रेसीडेंट गैरी सी.के. हुआंग भी शामिल थे।

डेली रैफल ड्रा के साथ बम्पर ड्रा की भी हुई घोषणा

अजय काला ने बताया कि षो के तहत आज डेली रैफल ड्रा के साथ-साथ बम्पर ड्रा की भी घोषणा की गई। अंतिम दिन का रैफल ड्रा कूपन नम्बर 147660 को घोषित किया गया। यह ड्रा गुलाब चन्द कटारिया ने निकाला। जबकि तीसरे दिन का ड्रा आई.ए.एस., पुरूषोत्तम अग्रवाल द्वारा निकाला गया था, जिसका कूपन नम्बर 146012 था। जेजेएस के पहले दिन 20 दिसम्बर का ड्रा कूपन नम्बर 154119, दूसरे दिन 21 दिसम्बर का ड्रा 149686 के नाम रहा। चारों दिन के डेली रैफल ड्रा जी के चूड़ीवालाज की ओर से प्रायोजित किये गये। इसी प्रकार जयपुर ज्वैलरी शो की ओर से दिया जाना वाला बम्पर ड्रा का कूपन नम्बर 148119 के नाम निकला। इस लकी ड्रा अरूण चतुर्वेदी ने की घोषणा की। शाम को आयोजित अवार्ड समारोह में जेजेएस के 32 वेन्डर्स का आभार व्यक्त करने के साथ उन्हें स्मृति चिन्ह भी भेंट किए गए। जेजेएस सचिव राजीव जैन ने शो के सफलता के लिए धन्यवाद ज्ञापित करते हुए अगले वर्ष के शो की थीम व तारीख की घोषणा की।

लीडरशिप की डगर पर विशेष बच्चे

दिशा परिसर में आयोजित रायला कार्यRम के दूसरे दिन बच्चों ने जाने टीमवर्क और पब्लिक स्पीकिंग के गुर

- तीन दिवसीय कार्यRम का समापन आज, रोटरी क्लब के इन्टरनेशनल प्रेसीडेंट गैरी हुआंग करेंगे विशेष बच्चों की स्मार्ट क्लास का शुभारम्भ

जयपुर। जिन्दगी में कुछ हासिल करने के लिए न केवल जज्बा और हौसला होना चाहिए बल्कि प्रभावी संवाद कला भी आनी चाहिए। यह कहना है कम्यूनिकेशन ट्रेनर प्रज्ञा मेहता का।

निर्माण नगर-सी स्थित दिशा फाउण्डेशन परिसर में आयोजित किये जा रहे रोटरी यूथ लीडरशिप अवॉर्ड (रायला) कार्यRम के दूसरे दिन सोमवार को विषेष बच्चों में कम्यूनिकेशन स्किल डवलप करने के लिए आयोजित की गई वर्कशॉप में प्रज्ञा ने यह बात कही।

कार्यRम की शुरूआत में बच्चों को सम्बोधित करते हुए दिशा की निदेशक कविता अपूर्वा वर्मा ने कहा कि यह तीन दिवसीय रायला कार्यRम विशेष बच्चों को समाज की मुख्यधारा से जोड़ने में अहम साबित होगा। संस्थान की सहायक निदेशक अर्पिता यादव ने जिन्दगी में प्रभावी संवाद कला की अहमियत पर जोर दिया।

गौरतलब है कि मानसिक रूप से कमजोर, सेरेब्रल पाल्सी, ऑटिस्टिक और मल्टीपल डिसेबिलिटी से ग्रसित बच्चों तथा श्रवण बाधित व दृष्टि बाधित बच्चों को एक ही मंच पर एक साथ लीडरशिप, कम्यूनिकेशन स्किल्स, लक्ष्य हासिल करने की क्षमता और जीवन जीने की कला सिखाने के लिए देश ही नहीं बल्कि दुनिया में भी पहली बार ऎसा प्रयास किया जा रहा है।


इससे पूर्व कार्यRम के पहले सत्र में खेल प्रशिक्षक केसर आरा ने विभिन्न स्पोट्र्स एक्टिविटीज, प्ले थैरेपी और साउण्ड थैरेपी के जरिये विशेष बच्चों को कम्यूनिकेशन स्किल डवलप करने और टीमवर्क की बारीकियां समझाईं।

दूसरे सत्र में ट्रेनर महमूद अली ने टच थैरेपी के जरिये लोगों को जानने और समझने की कला सिखाई। इसी सत्र में ट्रेनर श्याम महावर ने डांस थैरेपी के जरिये टीम बिल्ड करने, लीडरशिप स्किल डवलप करने और व्यक्तित्व में निखार लाने के गुर सिखाये।

कार्यRम के अन्तिम सत्र में ट्रेनर प्रज्ञा मेहता ने कम्यूनिकेशन स्किल बढ़ाने, इफेक्टिव पब्लिक स्पीकिंग और पर्सनेलिटी डवलपमेन्ट के बारे में सिखाया।

People beeline in Jaipur Jewellery Show

Russian creative expert gives mantras for creative enhancement

 

Jaipur. The Jaipur Jewellery Show apart from the glitter and glamour is also serving as a useful platform for those who want to learnt about creativity. The seminar on the third day of the show attracted not only designing students but also the manufacturers who turned up to know about creativity and luxury brand building.

 

Anastassiya Savchenko, the Russian creative expert who was flown by the hosts to address the audience surprised everyone with her presentation. Savchenko, a young creative designer who heads the prestigious advertising agency Ogilvy & Mather's Central Asia operations spoke on the creativity enhancement and how one could use their thoughts for creating an art object.

 

She   showed the students on how the state bird peacock could be presented in its various forms and how one could create a design without using the full body form of a peacock. She showed one of her own creation-a hand fan which had just the peacock's head on one corner of the top of the hand fan. The fan had feathers of the peacock only in a symbolic way.

 

She asked the students to paint a balloon and all the students sketched the balloon.But she surprised everyone when she showed a slide in which the inverted balloon was heading skyward and trying to hit the cloud.  Savchenko's idea was to show to show by mere thinking differently one could   create a design that would look unique.

 

Sacvhenko started her career as a journalist and became a creative person and works for Nutcrackers Creative Agency which is known for their out of the box ideas.

 

She asked the students to sketch anything  that they think gives a glimpse of their creative instincts and after examining the works done by the students for which they were given five minutes,she explained on how to instigate oneself for creativity and how sudden ideas that crop up in the minds of people  could become a piece of art..

 

Tarun Panwar of Pearl Academy of Delhi spoke on luxury brand strategies and explained what luxury is.He said luxury is superlative and not comparative. He said luxury good producers should not respond to rising demands and should always create a   vacuum that only they could fill.

 He also gave various examples of  luxury anti laws where the emphasis was on –dominate the client, make it difficult for the client to buy and don't use any celebrity for product promotions. Panwar suggested that promotion should be different than the normal ones practiced by  established groups.

 

The seminar culminated with an interesting  narrative session where two bright creators  Yash Agarwal of Birdhichand Ghanshyamdas and Abhishekh Haritwal of Symetree spoke about their experience with the students and also participants of the show. Both Yash and Abhishek taled about the challenges of designs industry and promotion of brand under intense competition.

Both Yash and Abhishek  answered question relating the various aspects of the designing and also intellectual property rights (IPR). Abhishek said that because of  lack of fear for stealing designs the growth of Jaipur jewellery is checked.He said there should be proper system for registering the design so that it cannot be replicated.

 

Yash said that one should believe in one's creativity for producing wonders as copying would not take them far.

Photo Caption:

DSC_6427 - 6423: Ms. Anastassiya Savchenko, the Russian creative expert at the workshop being organized today in Jaipur Jewellery Show.

12th TATA Open: M dharma wins Round 4

the prize presentation picture and winner's action picture from round 4 of the 12th TATA Open.

Prize Presentation Picture Caption:

M Dharma (3rd from left) receives the winner's cheque from Mr. Uttam Singh Mundy, Director, PGTI (extreme left), Mr. T V Narendran, Managing Director, TATA Steel (2nd from left) and Mr. Sunil Bhaskaran, Deputy Vice President, Corporate Services, TATA Steel and Golf Captain, Jamshedpur (extreme right).
  

RYLA Work for a cause & Live to express

Jaipur. DISHA: A Resource Centre for Multiple Disabilities in jaipur. It's special program starts on sunday that theme is "Work for a cause, not for applause; Live to express not to Impress."

 

anil bairwa missing from sanganer

Jaipur. A boy anil berwa is missing from sanganer poice station of jaipur.

FOUR JAIPUR FICCI FLO ACHIEVERS HONOURED AT THE NATIONAL LEVEL

Jaipur. There were four FICCI FLO Achievers of Jaipur Chapter honoured among the 30 FICCI FLO Achievers at the national level. They were felicitated for their outstanding contribution in their respective fields by the veteran journalist, Mr. Shekhar Gupta, Editor in Chief of Indian Express in Delhi on Saturday.

 

Among the Jaipur achievers are Alka Batra who has made a name for herself through HR solutions, placements and corporate training. Nisha Jain Grover, for the last 15 years, has been helping children with learning disorders in Jaipur. She now has a team of 23 educators working in 31 schools. Dr. Gunjan Jain was the first female infertility expert to open her own IVF centre in northern India. She has helped more than 10,000 couples so far. Kulsum Malik has made a name for herself in beauty training and owns 12 beauty parlours, herbal cosmetic factory and beauty training institutes.

The FICCI FLO Chairperson of Jaipur Chapter, Ms. Bela Badhalia said that it is indeed a matter of immense pride and source of inspiration for us.

12th TATA Open: joint round 3 leaders

Attached are the pictures of joint round 3 leaders from the 12th TATA Open - M Dharma and Md Zamal Hossain Mollah.

Campaign for a 'Safe' New Year. By RNP+

नव वर्ष आप सब के लिये मंगलमय और सुरक्षित हो।

नव वर्ष का आगमन उत्सव का अवसर होता है, पर नए साल का जोश कई हादसों का कारण बन सकता है।  HIV संक्रमण का खतरा भी जश्न में डूबे युवाओं को अपनी गिरफ्त में ले सकता है।  देर रात तक होने वाला जश्न, शराब और उमंग में युवाओं को असुरक्षित योन व्यवहार के खतरे के प्रति सचेत करने के लिये RNP+ ने "शुभ और सुरक्षित नव वर्ष" अभियान का आयोजन किया है.

नव वर्ष पूर्व संध्या तक चलने वाले इस अभियान के तहत युवाओं को HIV/AIDS के खतरे के प्रति जागरूक किया जायेगा। इसी श्रखला में युवाओं को आकर्षित करने के लिये एक "म्यूजिकल कॉन्सर्ट" का आयोजन MNIT कॉलेज में आगामी शनिवार को किया जा रहा है। (28 December evening 3:00 ) इस में दिल्ली के व्याख्यात बैंड अपनी प्रस्तुति से लोगों में सुरक्षा के प्रति जागरूकता का सन्देश देंगे।

इस आयोजन के अवसर पर संस्था के संस्थापक बृजेश दुबे ने कहा, " उत्सव के माहोल में युवा सुरक्षित  व्यवहार कि अनदेखी न करें, HIV  संक्रमण का कोई उपचार नहीं है. सुरक्षा ही एकमात्र उपाय है।  हमारा उद्द्येश है के इन्फेक्शन को आगे फैलने से पूर्णता रोका जाये"

"हम चाहेंगे के इस वर्ष लोग जब एक दूसरे को नए साल कि शुभ कामनाएं दे तो साथ में सुरक्षित रहने कि नसीहत भी दें और इस नए साल में प्रण लें कि वे स्वयं और दूसरों को इस संक्रमण से सुरक्षित रखंगे।"

आप सब को "Happy and Safe New Year "

Experts speak out on the elements in designing at jjs-13

Jaipur. The  glitter and glamour of the jewellery show young  jewellery designing students and  serious designing enthusiasts attended a seminar on  designing at the Jaipur Jewellery  Show (JJS) here at the Raj Mahal Palace exhibition arena on Saturday.

World renown  designer  Yianni Melas  teamed up with the  Jaipur's own Ayush Kasliwal,the finalist in 2011 for the "British Council's Young creative entrepreneur" awards who has  showcased his talent at Maison et Object in Paris and who installed the major art installation at Indira Gandhi International airport at  Delhi.

Melas is not only a designer, he is a story teller and a creator and the  man behind Swarowski  an d design legend David Yurman.He worked for  Helmut Swarowski as his personal advisor for 14 years and with leading diamond manufacturer  Lev Levlev for 14 years.

Melas based out in Cyprus and Zimbabwe,he has created his own brand Phillipe Alexander.

Melas is a person  who believes that designing is nothing beyond the world around you and you will have  to create and element as element is design.

He said element is a creation that can be replicated as a  pattern. He stressed that the  designer should create an identity for himself or herself and the products  designed  should be identified by its patterns and  values.  True   design is one that could create a brand identity  that is connected to similarity in piece  created.

He said famous designers like Cavially was known for using leopards and zebras in his design and David Yurman was known for his  German ropes. In their work the elements of wildlife and ropes were easily identified and one could easily spot the art pieces as the creations of the masters..

Talking about the jewellery product designing, he said the designer should  depict the  romance of the gemstones in its varied hues. He said a jewllery as  an art object should have a story to  tell and the designer should be able to tell the customer how the product is unique and he should give all the details relating to the making of the jewllery to the customer

"The designer should be able to master the blending elements to achieve a separate and  distinct identity and a product thus created will not only get him name, fame but also money" added Melas.

He said  jewellery is  always related to women, but in ancient India even the men used to wear  jewllery and they still wear it. He urged the young designers who attended the  discourse to involve in unisex designs which would be for  both males and females. He said  masculine  jewellery with its on distinct identity of colours and metals are identifiable and the designers should look beyond cufflinks, buttons, bracelets and rings.

 

Ayush Kasliwal, a graduate of the national Institute of design believes that objects are messages in physical form. Kasliwal who launched AnanTaya a retail along with his wife Gitanjali provides direct client encounters and international exposure  of products.

Kasliwal insisted that the young designer should first experience and then define a situation. He said designing is nothing but using experience as a source of design.

He  urged the  aspiring designers to adopt their own design philosophy and work accordingly.He said Rajasthan is the biggest location  for inspiration for any designers as it has colours, music,folklore,monument and landscapes.

Google celebrates shortest day of the year with knitting doodle


किराए की हवेली, सवाजट पर 50 लाख खर्च

लोकप्रिय विवाहित युगल विक्टोरिया और डेविड बेकहम इस क्रिसमस पर अपने घर को सजाने पर 50 लाख रूपए(50,000 पाउंड) खर्च कर चुके हैं। खास बात यह है कि उन्होंने यह सजावट खर्च उस हवेली पर किया है जो उन्होंने लंदन में किराए पर ली है। 

इस युगल ने यह सजावट फोर्टनम एंड मैसन डिपार्टमेंट के जरिए करवाई जिसमें दो दिन का समय लगा।

विक्टोरिया (39) और डेविड (38) ने ये हवेली पसंददीदा गोल्डन और व्हाइट थीम पर सजवाई है। 

बच्चों के लिए खर्च किए 50 हजार पाउंड

विक्टोरिया इस बात को लेकर दृढ़ थी कि उनके बच्चों ब्रुकलिन (14), रोमियो (11) क्रूज (8) और हार्पर (2) के लिए घर ज्यादा से ज्यादा सजावटी हो।

डायमंड से सजाया क्रिसमस ट्री

विक्टोरिया और बेकहम के इस घर को तीन बड़े और दो छोटे क्रिसमस ट्री से सजाया गया है। इन्हें ढेर सारी सजावटी चीजों से सजाया गया, जिससे कि वह डायमंड सरीखे दिखते हैं। 

ये हैं जयपुर के स्पेशनल डांसिंग स्टार

पिछले 15 दिनों से उमंग संस्थान में हलचल के साथ उत्साह के माहौल है। इन दिनों यहां के विषेश बच्चे डांस के नए स्टेप सीख रहे हैं और अपनी तमाम सीमाओं के बावजूद संगीत के साथ कदमताल मिलाने के लिए उत्सुक नजर आ रहे हैं। बच्चे ही नहीं, इन्हें डांस का प्रशिक्षण दे रहे श्यामक डावर इंस्टीट्यूट ऑफ परफॉर्मिग आट्र्स मुम्बई के प्रशिक्षक भी यहां उतने ही उत्साहित देखे जा सकते हैं।

इस इंस्टीट्यूट के सिंगधा और रूबेल, दोनों की ओर से उमंग में विषेष बच्चों के लिए डांस वर्कशॉप आयोजित की जा रही है। ये दोनों प्रशिक्षक विकलांग बच्चों को डांस सिखाने में विषेषज्ञता रखते हैं। यह वर्कशॉप न सिर्फ उमंग के इन बच्चों का आत्मविष्वास बढ़ाने में सहायक साबित होगी, बल्कि इन बच्चों के शरीर के बेहतर समन्वय और संगीत की धुनों पर नृत्य कराने में भी सहायक सिद्ध होगी।

यह वर्कषॉप इन बच्चों के लिए एक थैरेपी की तरह है, जिसमें ये सçRय रूप से शामिल होकर समूह रूप में प्रदर्षन करना सीख रहे हैं। यहां शारीरिक व अन्य प्रकार की विकलांगता के षिकार 40 से अधिक विषेष बच्चों को एडवांस्ड और शुरूआती समूहों में डांस के नवीन स्टेप सिखाए जा रहे हैं। एस.डी.आई.पी.ए. की धर्मार्थ संस्था, विक्ट्री आट्र्स फाउंडेशन, मुम्बई के द्वारा इन विषेष बच्चों के लिए यह वर्कशॉप नि:शुल्क आयोजित की जा रही है।

प्रषिक्षण वाले ये दिन इन बच्चों के लिए इस वर्कशॉप में शामिल हो पाने की सक्षमता को इनकी उर्जा व उत्साह के जरिए साफ बयां कर रहे हैं। ये सभी बच्चे स्वयं को इस वर्कशॉप के ग्रांड फिनाले में प्रस्तुतियां देने के लिए अपने साथियों के साथ तैयार कर रहे हैं, जो कि 23 दिसम्बर को बिड़ला ऑडिटोरियम में आयोजित किया जाएगा।

उल्लेखनीय है कि उमंग के लिए यह वर्कशॉप स्टेप बाय स्टेप स्कूल और श्यामक डावर के विक्ट्री आट्र्स फाउंडेंशन का एक संयुक्त प्रयास है। 

बैजनाथ की 'खामोश सहर’ राज्यपाल को भेंट

- पांच भागों में विभाजित है लेखक-पत्रकार अमित बैजनाथ गर्ग की 110 पृष्ठों की यह किताब
जयपुर।
लेखक-पत्रकार अमित बैजनाथ गर्ग ने अपने पहले काव्य संग्रह 'खामोश सहर' की प्रति राजभवन में राज्यपाल मारग्रेट आल्वा को भेंट की। इस दौरान राज्यपाल आल्वा ने अमित से पुस्तक की विषय-वस्तु प्रेम, समर्पण एवं संवेदना पर भी खुलकर चर्चा की। गौरतलब है कि लेखक की 110 पृष्ठों की यह पुस्तक पांच भागों में विभाजित है। पहले भाग में कुछ कविताएं, दूसरे में चंद टुकड़े, तीसरे में एक नजर, चौथे भाग में सीधी सपाट और पांचवें भाग में वक्त दर वक्त के रूप में विभिन्न रचनाएं समाहित हैं।
    पुस्तक की विषय वस्तु प्यार, समर्पण, संवेदना और आम आदमी पर केंद्रित है। बकौल अमित, यह किताब हर उस इंसान की कहानी कहती है, जो परिस्थितियों से उपजे दर्द को शब्दों में साझा करना चाहता है। पुस्तक से प्राप्त होने वाली आय लेखक ने बाल शिक्षा को बढ़ावा देने की दिशा में काम करने वाले दीपम फाउंडेशन को समर्पित कर दी है।

DR. ARNO SCHRIEFFER INAUGURATES COMMON EFFLUENT TREATMENT PLANT

डॉ अर्नो शेफर ने किया सी.ई.टी.पी. का उद्घाटन 

जयपुर। रीको के बगरू औद्योगिक क्षेत्र में स्थित जयपुर इंटीग्रेटेड टैक्सक्राफ्ट पार्क प्राइवेट लिमिटेड (जे.आई.टी.पी.पी.एल)Jaipur Integrated Texcraft Park Pvt. Ltd - JITPPL में आज पांच लाख लीटर क्षमता वाले कॉमन एफ्यूलेंट ट्रीटमेंट प्लांट (सीईटीपी) का उद्घाटन किया गया। डॉ अर्नो शेफर, मिनिस्टर काउंसलर, डेलिगेशन ऑफ द यूरोपियन यूनियन टू इंडिया ने फीता काटकर इस प्लांट का उद्घाटन किया।


उल्लेखनीय है कि 60 करोड़ रूपए की लागत से जयपुर इंटीग्रेटेड टैक्सक्राफ्ट पार्क यहां 23.42 एकड़ क्षेत्र में तैयार किया गया है। इसके लिए केन्द्र सरकार की ओर से 40 फीसदी सब्सिडी प्रदान की गई है और सस्टेनेबल टेक्सटाइल प्रोडक्षन के प्रोत्साहन के अंतर्गत सस्टैक्स ;ैूपजबी ।ेपं च्तवरमबजए ैन्ैज्म्ग्द्ध के माध्यम से यूरोपियन कमीषन के स्विच एषिया प्रोजेक्ट के तहत यूरोपियन यूनियन की ओर से 15 फीसदी सब्सिडी दी गई है। शेष बची 45 फीसदी लागत जयपुर इंटीग्रेटेड टैक्सक्राफ्ट पार्क प्राइवेट लिमिटेड (जे.आई.टी.पी.पी.एल) सदस्यों ने वहन की है। पब्लिक-प्राइवेट सहभागिता पर आधारित यह प्रोजेक्ट उद्यमियों को जानकारी उपलब्ध कराने में सहायक साबित होगा।

स्विच एषिया के प्रोजेक्ट मैनेजर रवि खारका ने बताया कि यह एफ्यूलेंट ट्रीटमेंट प्लांट और सीटवेज वेस्ट वाटर प्रोजेक्ट स्थानीय इंडस्ट्री के दूषित पानी को रिसायकल कर इसके 90 फीसदी पानी को फिर से काम में लेने लायक बनाने में सक्षम होगा। खारखा ने आगे बताया कि यह पार्क टेक्सटाइल इंडस्ट्री के पानी की कमी की गम्भीर समस्या के समाधान में सहायक साबित होगा। बगरू का यह एफ्यूलेंट ट्रीटमेंट प्लांट टेक्सटाइल इंडस्टी में पर्यावरण के क्षति को कम करने की दिषा में एक आधारभूत मानक तय करेगा जिसे सरकार द्वारा अपनाया जा सकता है। 

उद्घाटन सत्र में डॉ. अरनो शेफर ने कहा कि अपने वादे के तहत टेक्सटाइल इंडस्ट्री को बचाने की दिषा में यूरोपियन यूनियन के स्विच एषिया की ओर से अनेक प्रयास किये गये हैं। इन प्रयासों के तहत स्विच एषिया की ओर से लघु एवं मध्यम उद्यमियों को ईको फ्रेंडली उत्पादों के निर्माण हेतु सही वास्तविक जानकारी, दिषानिर्देष और रिसर्चड टूलकिट्स प्रदान किए जाएंगे।

डॉ. अरनो शेफर ने राजस्थान में स्थित वस्त्र उद्योग की समस्या की ओर इषारा करते हुए कहा कि यहां अपषिष्ट उत्पादों के निस्तारण की बेहतर सुविधा उपलब्ध नहीं है। पर्यावरण हितेषी उत्पादों के निर्माण के लिये इसकी सख्त आवष्यकता है।  बगरू स्थित कॉमन एफ्यूलेंट ट्रीटमेंट प्लांट (सीईटीपी) को सहायता राषि उपलब्ध कराने का मकसद ऐसे उद्योंगों को बेहतर ईको फेण्डली उत्पाद निर्माण को प्रोत्साहित करना है। 

जयपुर इंटीग्रेटेड टैक्सक्राफ्ट पार्क प्राइवेट लिमिटेड के प्रबंध निदेषक विषाल चौध्री ने बताया कि जेआईटीपीपीएल 23.42 एकड़ भूमि में रीको औद्योगिक क्षेत्र फेज-2 बगरू में स्थापित है। इस प्रोजेक्ट की अनुमानित लागत लगभग 60 करोड रूपये है। कुल लागत राषि मे से 40 फीसदी अनुदान भारत सरकार की एसईटीपी योजना ओर लगभग 15 प्रतिषत यूरोपियन कमीषन ने स्विच एषिया प्रोजेक्ट Switch Asia Project, SUSTEX  के तहत उपलब्ध करवाया गया है। शेष 45 प्रतिषत जे.आई.टी.पी.पी.एल के सदस्यों ने सहयोग किया है। यूरोपियन यूनियन के स्विच एषिया प्रोजेक्ट के तहत 16 क्राफ्ट क्लस्टर और 30 टैक्सटाइल पॉर्क निर्मित किए जा रहे है। इनके जरिए पर्यावरण मित्र टैक्सटाइल उद्योग ओर गुणवत्ता सुधार के प्रयासों को गति देना है।

दिनेष गंगाधरण उपाध्यक्ष, इंजीनियरिंग, आईएल एण्ड एफएस ने जयपुर इंटीग्रेटेड टैक्सक्राफ्ट पार्क के ट्रीटमेंट प्लांट के बारे में संक्षिप्त जानकारी दी। राजस्थान सरकार में उद्योग विभाग के उपायुक्त एल.सी. जैन ने कहा कि यह पार्क एक मॉडल पार्क के रूप में विकसित किया जायेगा जो पर्यावरण हितेषी ईकाइयों के लिये आदर्ष सिद्ध होगा। 

राजस्थान प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के क्षेत्रीय निदेषक, बी.एस. शर्मा के अनुसार बोर्ड की ओर से विभिन्न पर्यावरण नियमों के अनुरूप उद्योंगों को सहायता उपलब्ध कराई जाती है। इस प्रोजेक्ट के पार्टनर  ट्रेडक्राफ्ट, यूके की कन्ट्री डायरेक्टर नीति मल्होत्रा ने धन्यवाद ज्ञापित किया।

Basketball player raped in rajasthan

Jaipur. 16-year-old national level basketball player raped a month ago in Chittorgarh city of rajasthan.

Accused known to the victim, but still roaming free Cops said they would arrest him after elections But no arrest yet.

US$ 176 million for Jaipur metro extension

Jaipur. The Asian Development Bank (ADB) has approved a loan of US$ 176 million to extend the first metro line in Jaipur, India, and to support plans to build a second line in the fast-growing Indian city.

Jaipur, the capital of Rajasthan, is
the 10 th largest city in India with
3.1 million people in 2011. That is
set to grow to around 8.1 million
by 2031, and the existing public
transport system is already
inadequate, the ADB said.

Under the Jaipur Development
Authority's public transport plan,
the local government is
constructing the 9.7 km elevated
metro Line 1 from Mansarovar, in
the western part of the city, to
Chandpole, on the western edge
of the central business district.
This part of the line is due to start
operating in late 2013.

The ADB loan will help finance an
additional 2.3 km underground
stretch from Chandpole to Badi
Chopar further east, along with
two stations, that should be ready
to provide access to the central
business district by March 2018.

The total cost of the Line 1 extension is US$ 259 million, with
the Rajasthan government paying
the balance. The ADB loan will also help finance studies into a planned 23 km Line 1, which will
run north to south.

Cyclothon-2013: india won gold medal

Jaipur. National and internation cyclists participated in cyclthon -2013 on tuesday in jaipur. India's udai kumar won the gold medal. The event organised for a social message to polution free bicycle ride.

Accoroding to information Cars and road transport make up 6% of the carbon footprint. 60% of car emission pollution occurs in the first few minutes before pollution control devices can work effectively. Approximately 40% of all car trips are less than 2 miles. Other modes are as following: Biking-10minutes, Walking-30minutes would keep about 15 pounds of pollutants out of the air.


• Cycling 6 miles to and from work instead of driving could burn 15 to 20 lbs of fat each year


• Cycling to work Reduces Your Carbon Footprint, Helps in weight loss and Is Economical


• Average car trip = 3 kilometres = 30 min


Average Cycle for 3 kilometres = under 15 minutes


If you choose to ride your bike to work just one day a week, you can reduce your contribution to CO2 global warming by 20% annually.

GOVERNOR TO BE THE CHIEF GUEST AT JJS

Jaipur. The Governor of Rajasthan, Smt. Margaret Alva will be the Chief Guest at the annual Jaipur Jewellery Show to be held here at Hotel Raj Mahal from 20 to 23 December. This was informed by the JJS Convenor, Mr. Vimal Chand Surana today. The Governor will officially inaugurate the event on 20 December. The Chairperson of GJEPC, Mr. Vipul Shah will be the Guest of Honour.

 

It has been the tradition of Jaipur Jewellery Show to have eminent personas as the Chief Guests. It will indeed be a privilege to have a distinguished person as Smt. Margaret Alva to be the Chief Guest said the Secretary of JJS, Mr. Rajiv Jain. 

Meanwhile, in the Diamond Festival organized by the JJS, Ms. Lata Jain won the one carat diamond lucky draw today. The draw was taken out by the Honorary Secretary General, Rajasthan Chamber of Commerce and Industry, Mr. K L Jain.   

 

Mr. Ajay Kala, the Spokesperson for JJS, said that there is a great enthusiasm among the stall owners and visitors for the Jaipur Jewellery Show which is starting from 20 December. Over 30,000 visitors come for the show every year. 

SC allows Rajasthan HC judge raghvendra s rathore's daughter to marry her boyfriend

Jaipur. Rajasthan High Court Judge Justice Raghvendra Singh Rathore allegedly confined his 30-year-old daughter at home to bar her from marrying her boyfriend belonging to a different caste.

शीश राम ओला का जीवन सफर


जयपुर। कांग्रेसी नेता शीश राम ओला अब इस दुनिया में नहीं रहे। जाट नेता ओला आज बेशक हमारे बीच नहीं हैं, लेकिन उनके कार्य और संस्मरण हमेशा हमें उनकी याद दिलाते रहेंगे। ओला राजस्थान में जगन्नाथ पहाडिया, शिवचरण माथुर और हरिदेव जोशी मंत्रिमंडलों में सालों तक विभिन्न विभागों के प्रभारी राज्य मंत्री और बाद में कैबिनेट मंत्री रहे। कृषक परिवार में हुआ जन्म शीशराम ओला का जन्म 30 जुलाई 1927 को झुंझुनूं जिले के अरडावता ग्राम में एक साधारण कृषक परिवार में हुआ। उन्होंने मैट्र्रिक तक शिक्षा प्राप्त की और 1948 से 51 तक अरडावता ग्राम पंचायत के सरपंच रहे तथा 1960 से 1977 तक झुंझुनूं के जिला प्र्रमुख रहे। 1957 में पहली बार विधायक बने शीशराम ओला 13 फरवरी, 1957 को पहली बार विधायक बने थे। इसके बाद 1962 के चुनावों में कांग्रेस टिकट पर खेतड़ी क्षेत्र से फिर विधायक चुने गए लेकिन 1967 में पराजित हो गए। बाद में 30 जून 1969 वह खेतड़ी क्षेत्र से ही उपचुनाव में विजयी हुए। पहली बार 1981 में मंत्री बने इसी तरह 1972 और 1977 में वह पिलानी तथा 1980, 1985 और 1993 के चुनावों में झुंझुनूं क्षेत्र से विधायक चुने गए। वह झुंझुनूं क्षेत्र से ही 1980 के लोकसभा तथा 1990 के विधानसभा चुनावों में पराजित हुए। ओला पहली बार 18 फरवरी 1981 को पहाडिया मंत्रिमंडल में और इसके बाद 20 जुलाई 1981 को माथुर मंत्रिमंडल में ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज तथा सैनिक कल्याण वभाग के प्रभारी राज्य मंत्री नियुक्त किए गए। 1985 के विधान सभा चुनाव के बाद जोशी मंत्रिमंडल में 11 मार्च को सहकारित वन एवं पर्यावरण और सैनिक कल्याण आदि विभागों के प्रभारी राज्यमंत्री बनाए गए और 16 अक्टूबर 85 को कैबिनेट मंत्री के रूप में पदोन्नत किए गए। इसके बाद बनी माथुर सरकार में 6 फरवरी 1988 को शामिल किए गए और जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी भू जल तथा सैनिक कल्याण विभाग का दायित्व सौंपा गया । 12 जून 1989 को उनका विभाग बदलकर सिंचाई रावी व्यासनदियों के सिस्टम से संबंधित कार्य आबकारी तथा सैनिक कल्याण विभाग दिए गए। दो दिसम्बर 1989 को माथुर मंत्रिमंडल के त्यागपत्र के बाद बनी जोशी सरकार में 15 दिसंबर 1989 को फिर मंत्री के रूप में शामिल किए गए तथा एक मार्च 1990 तक इस पद पर रहे । पद्यश्री से सम्मानित किया गया वर्ष 1996 में 11वीं लोकसभा के सदस्दय चुने गए शीशराम ओला को 1968 में प्रदेश के एक सुदूर इलाके में लड़कियों की शिक्षा के क्षेत्र में योगदान के लिए पद्यश्री से सम्मानित किया गया था। शीशराम ओला को विधान सभा चुनाव के मद्देनजर हाल ही में केंद्रीय श्रममंत्री बनाया गया था। इससे पहले वह लोक सभा में कांग्रेस के उप नेता थे। अपने 56 साल के राजनीतिक करियर में उन्होंने पहली बार हालिया राजस्थान विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी का प्रचार नहीं किया। डॉक्टरों ने उन्हें बीमारी के कारण प्रचार के लिए मना कर दिया था।

दिग्गज जाट नेता शीश राम ओला नहीं रहे

नई दिल्ली। राजस्थान के दिग्गज जाट नेता शीश राम ओला का रविवार तड़के निधन हो गया। केंद्रीय श्रम और रोजगार मंत्री शीश राम ओला झुंझुनूं से सांसद थे। वे पिछले कुछ दिनों से बीमार चल रहे थे। ओला ने गुडगांव के मेदांत अस्पताल में अंतिम सांस ली। शीशराम ओला के निधन के बाद राजस्थान सहित पूरे देश में शोक की लहर है। ओला को पिछले मंत्रिमंडलीय विस्तार में केंद्रीय मंत्री बनाया गया था। कांग्रेस के 86 साल के वरिष्ठ नेता ओला 8 बार विधायक और 5 बार सांसद चुने गए थे। राजस्थान की राजनीति में इनका अहम योगदान था। सूत्रों के अनुसार, ओला का अंतिम संस्कार सोमवार को तीन बजे उनके पैतृकगांव अरडावता में होगा। ओला का पार्थिव शरीर उनके नई दिल्ली स्थित आवास पर जनता के दर्शनार्थ रखा गया है। ओला को विधानसभा चुनाव के दौरान तबीयत खराब होने पर दिल्ली के अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उनके पुत्र बृजेन्द्र ओला गहलोत सरकार में मंत्री रह चुके है तथा वे विधान सभा चुनाव में झुंझुंनू से कांग्रेस के दूसरी बार विधायक चुने गए है। ओला को विधान सभा चुनाव के मद्देनजर हाल ही में केंद्रीय श्रममंत्री बनाया गया था। इससे पहले वह लोक सभा में कांग्रेस के उप नेता थे । राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने ओला के निधन पर शोक जताया है।


चप्पे-चप्पे पर रहेगी खुफिया नजर जयपुर। विधानसभा में मुख्यमंत्री पद के शपथ ग्रहण समारोह में सुरक्षा व्यवस्था चाक-चौबंद रखने के लिए पुलिस ने चप्पे-चप्पे पर सीसीटीवी कैमरे लगाए हैं। समारोह स्थल के हर प्रवेशद्वार पर मेटल डिटेक्टिव के साथ ही कैमरों से भी नजर रखी जाएगी। पार्किंग स्थल पर भी कैमरे लगाए गए हैं। सुरक्षा प्रभारी (डीसीपी साउथ) विकास कुमार ने बताया कि समारोह में पास धारकों को 11.45 बजे के बाद प्रवेश नहीं दिया जाएगा। लोग अपने साथ बैग, झोला, बस्ता, थैला और अन्य वस्तु लेकर नहीं आएं। 1000 पुलिसकर्मी तैनात समारोह स्थल की सुरक्षा के लिए 1000 पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं। डेढ़ दर्जन से अधिक आरपीएस अधिकारी सुरक्षा व्यवस्था की कमान संभालेंगे। आसपास बहुमंजिला भवनों की छतों पर सुरक्षाकर्मी दूरबीन से संदिग्धों पर नजर रखेंगे। यह रहेगी प्रवेश व्यवस्था पासधारक व्यक्तियों को ही समारोह स्थल पर प्रवेश दिया जाएगा। अति विशिष्ट व्यक्तियों सहित सभी आमंत्रित व्यक्ति जो विधानसभा परिसर में जाने के लिए आमंत्रित हैं, वे अपने वाहन एसएमएस स्टेडियम के दक्षिणी द्वार के अन्दर बने पाìकग स्थल पर खड़े कर पैदल ही विधानसभा के उत्तर पूर्वी गेट नं.1 पर पास दिखाकर ही प्रवेश कर सकेंगे। एसएमएस स्टेडियम में पाìकग के लिए वाहन पर अधिकृत पास चिपका होने पर ही प्रवेश दिया जाएगा। 11 चार्टड प्लेन से आएंगे दिग्गज नेता राजस्थान के मुख्यमंत्री पद पर वसंुधरा राजे की ताजपोशी देखने के लिए चार्टड प्लेन से आने वाले वरिष्ठ नेताओं को लेकर शुक्रवार को सांगानेर अंतराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर खासी गहमागहमी रहेगी। सुबह से दिल्ली, मुंबई, अहमदाबाद सहित देश के अन्य राज्यों के दिग्गज नेता इस शपथ ग्रहण समारोह में पहुंचेंगे। हवाईअड्डा प्रशासन के अनुसार भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी सहित कई पार्टियों के दिग्गज 11 चार्टड प्लेन से जयपुर आ रहे हैं। उद्धव और राज एक ही विमान में हवाईअड्डा सूत्रों के मुताबिक महाराष्ट्र में आमने-सामने की राजनीति कर रहे ठाकरे बंधु एक ही फ्लाइट से जयपुर आ रहे हैं। पिछले दिनों महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना प्रमुख राज ठाकरे शिवसेना प्रमुख और उनके चचेरे भाई उद्धव ठाकरे की बीमारी के समय साथ थे और इसी के साथ दोनों के रिश्तों को नए नजरिए से देखा गया था। यह होगी यातायात व्यवस्था मुख्यमंत्री पद के शपथ ग्रहण समारोह के दौरान शुक्रवार सुबह 11.45 बजे विधानसभा के आसपास यातायात की विशेष व्यवस्था की गई है। दिल्ली व आगरा से आने-जाने वाली रोडवेज बसें नारायणसिंह तिराहा से पृथ्वीराज टी पॉइंट, पृथ्वीराज रोड, स्टेच्यू सर्किल, चौमूं हाउस सर्किल, गवर्नमेंट हॉस्टल होते हुए संसार चन्द्र रोड होकर आ-जा सकेंगी। रामबाग से बाइस गोदाम सर्किल तक चलने वाले सामान्य यातायात को आवश्यकतानुसार डायवर्ट कर समानांतर मार्गो से निकाला जाएगा। बाईस गोदाम से तिलक मार्ग की तरफ वे ही वाहन जा सकेंगे, जिन्हें कार्यक्रम में सम्मिलित होना है। इसी प्रकार स्टेच्यू सर्किल से अंबेडकर सर्किल की तरफ व रामबाग चौराहे से अंबेडकर सर्किल की तरफ केवल हाईकोर्ट के न्यायाधीश व स्टाफ, अन्य विभागों में कार्यरत अधिकारियों- कर्मचारियों के वाहन ही आ सकेंगे। समारोह में मेहमानों के लिए यहां पार्किग नवनिवार्चित विधायक व उनके परिजन, विशिष्टगण सहित अन्य आमंत्रित व्यक्तियों के वाहनों की पार्किंग व्यवस्था एसएमएस स्टेडियम के दक्षिण गेट से अंदर की जाएगी। कार्यक्रम के बाद अनाउंस कर उनके वाहन कार्यक्रम स्थल तक बुलाए जा सकेंगे। जिन आमंत्रित व्यक्तियों के बैठने की व्यवस्था जनपथ पर की गई है, वे अपने वाहन अमर जवान ज्योति के सामने खाली मैदान में पार्क कर सकेंगे। केसरिया रंग के पासधारियों के वाहनों की पार्किंग अमरूदों का बाग, उद्योग मैदान एवं एसएमएस इन्वेस्टमेंट रामबाग के नजदीक कर सकेंगे। बाइस गोदाम से कार्यक्रम में आने वाले वाहनों की पार्किंग कठपुतली कॉलोनी कट होते हुए अमरूदों का बाग में की जाएगी। पांच बत्ती (भगवानदास रोड) व पृथ्वीराज रोड से आने वाले वाहनों की पार्किंग उद्योग मैदान में की गई है। जेएलएन मार्ग एवं टोंक रोड से आने वालों के वाहनों की पार्किंग एसएमएस इंवेस्टमेंट रामबाग के नजदीक की गई है। जीएडी विभाग द्वारा आमंत्रित विशिष्ठगण व अन्य आमंत्रित व्यक्ति टोंक रोड पर नगर निगम के पास से पंकज सिंघवी मार्ग होकर आ-जा सकेंगे। विभाग द्वारा आमंत्रित व्यक्तियों के वाहनों की पार्किग व्यवस्था एसएमएस स्टेडियम के दक्षिण गेट से अंदर की गई है। वीआईपी वाहनों को लेकर गफलत मुख्यमंत्री के शपथ ग्रहण समारोह में आने वाले अतिविशिष्ट लोगों के वाहनों के प्रवेश के लिए जारी हुए पास को लेकर पुलिस और इंटेलीजेंस विभाग पशोपेश में हैं। बताया जाता है कि समारोह के लिए सामान्य प्रशासन विभाग ने वीआईपी सहित तमाम अन्य अधिकारियों के वाहनों के पास एक ही तरह के जारी कर दिए हैं। यहीं नहीं, जीएडी ने समारोह स्थल में वीआईपी वाहनों के प्रवेश के लिए पुलिस की ओर से निर्घारित मार्ग का उल्लेख भी नहीं किया। पुलिस-प्रशासन वीआईपी वाहनों की पार्किंग और उनकी सुरक्षा को लेकर पशोपेश में है। सूत्रों ने बताया कि पुलिस और इंटेलीजेंस के अधिकारियों ने वीआईपी लोगों की सुरक्षा के मद्देनजर समारोह में आमंत्रित अतिविशिष्ठ, विशिष्ठ और सरकारी अधिकारियों के वाहनों के लिए अलग-अलग रंग के पास जारी करने के अलावा इनके लिए अलग प्रवेश मार्ग निर्घारित करने का सुझाव दिया था। लेकिन जीएडी विभाग ने कोई तवज्जो नहीं दी और सभी वीआईपी लोगों के लिए एक ही तरह के पास जारी कर दिए। क्या था सुझाव सूत्रों ने बताया कि समारोह की तैयारियों को लेकर हुई बैठक में खुफिया विभाग के अधिकारियों ने वीआईपी सुरक्षा के मद्देनजर अलग रंग के पास जारी करने और इनके वाहनों के प्रवेश के लिए अलग मार्ग निर्घारित करने की सलाह दी थी। कहां हुई चूक बताया जाता है कि वीआईपी लोगों के वाहनों को टोंक रोड से होते हुए समारोह स्थल के दक्षिणी गेट से प्रवेश करने की व्यवस्था की गई है, लेकिन उन्हें जारी वाहन पास में उनके प्रवेश करने के मार्ग का कोई उल्लेख नहीं किया गया। समारोह के आयोजन को लेकर शासन सचिवालय में हुई बैठक में वीआईपी लोगों की सुरक्षा के मद्देनजर जीएडी को अलग-अलग वाहन पास जारी करने की सलाह दी गई थी। दलपत सिंह दिनकर, एडीजी इंटेलीजेंस जीएडी की ओर से जारी वीआईपी पास में उनके वाहनों के प्रवेश मार्ग का उल्लेख नहीं किया गया। इन लोगों के वाहनों के प्रवेश मार्ग को लेकर अलग से पे्रसनोट जारी करना पड़ा। संजय श्रोत्रिय, डीसीपी ट्रेफिक,

Supreme Court Final Hearing on Majithia Wage Board for journalists and non- journalists

New Delhi. supreme court case no 246,Supreme Court Fresh Hearing (not Judgement) on Majithia Wage Board for journalists and non-journalists is on 12th December, 2013. The matter remained part-heard and be listed on 12th December, 2013 . On 10th December, 2013 case is continued with arguments. The Case is postponed to 12th December, 2013. The case is listed on the top as first case. On 28th November, 2013 case is continued with arguments. The Case is postponed to 10th December, 2013. The case is listed on the top as first case. On 27th November, 2013 Heard Mr. Aman Lekhi, learned senior counsel appearing for the petitioners in WP(C)NO. 386 of 2011, Mr. Manoj Goel, learned counsel appearing on behalf of the petitioners in W.P.(C) No. 546 of 2011, Mr. S.S. Ramdas, learned senior counsel appearing on behalf of the petitioners in W.P. (C)N0.408 of 2011 and Mr. Akhil Sibal, learned counsel appearing on behalf of the petitioners in W.P.(C)NO.384 of 2011. On 12th, 13th november 2013, Mr. K.K.Venugopal appeared on behalf of Writ petitioners case no: 384 of 2011 and continued his arguments at 10.45 a.m and also made his submissions in Writ petitioners case no:538 of 2011 upto 3.20 p.m. Thereafter, Mr. AmanLekhi,learned senior counsel appearing on behalf of the petitioner in Writ petitioners case no:386 of 2011 started his arguments and was on his legs till 3.45 p.m.The Case is postponed to 26th November, 2013. On 24th October 2013, Writ petitioners case no: 315 of 2012 appeared on before the council. Mr. Anil B. Divan appeared on behalf of the Writ petitioners. Mr. Anil B. Divan started his arguments at 10:30 a.m and concluded at 3.25 p.m. There after, Mr. K.K.Venugopal appeared on behalf of Writ petitioners case no: 384 of 2011 and made his arguments till the court is adjourned.The matters remained part-heard on 12th November, 2013. On 3rd October 2013, Writ petitioners case no: 382 of 2011 appeared on before the council. Mr. P.P. Rao appeared on behalf of the Writ petitioners. Mr. P.P. Rao resumed his arguments at 10:35 a.m and concluded at 2.45 p.m. There after, Mr. Anil B. Divan appeared on behalf of Writ petitioners case no: 315 of 2012 and made his arguments till the court is adjourned.The matters remained part-heard on 24th November, 2013. On 1st October 2013, Writ petitioners case no: 246 of 2011 appeared on before the council. Mr. Gopal Jain appeared on behalf of the Writ petitioners. Mr. Gopal Jain started at 10:35 a.m, he submitted documents, arguments and concluded at 3.00 p.m. There after, Mr P.P. Rao appeared on behalf of Writ petitioners case no: 382 of 2011 ( Government labor Board) and made his submissions documents till the court is adjourned.The matters remained part-heard on 3rdth November, 2013. Counsel for the employees B.K. Pal and Parmanand Pandey drew the attention of the court to the fact that journalists were waiting for more than 12 years for this wage board, and pleaded that the hearing should be expedited.

Lalit Modi all set to fight RCA elections

Jaipur. Lalit Modi's counsel Mehmood Abdi insists that there was no legal tangle and the former Indian Premier League chief was entitled to fight the elections.

Lalit ModiUncertainty over Lalit Modi contesting the Rajasthan Cricket Association (RCA) elections later this month ended on Tuesday with his legal counsel Mehmood Abdi confirming that the former Indian Premier League commissioner will fight the polls.

Talking to PTI, Abdi said that the former RCA president will fight for the top post once again, thereby throwing a gauntlet at the BCCI, who has banned him for life in all cricket matters in India.

"He is all set to fight the RCA elections, which would be held on 19th December. He is willing to challenge the BCCI who has banned him for life," Abdi, who is also the president of the Sri Ganganagar District Association, said.

Abdi also insisted that there was no legal tangle and Modi was entitled to fight the elections. "His name is already on the eligibility list as president of the Nagpur District Cricket Association and moreover Rajasthan is governed by the Sports Act 2005. The date for nominations is from 14th to 16th December and Modi would file his nomination in time," he said.

Abdi, as the spokesman of Modi group, also clarified that the group has no reservation or aversion to certain individuals. "Everybody whosoever is interested in the development of the cricket in Rajasthan is welcome to join and vote for Lalit Modi in the forthcoming RCA elections. We are confident of overwhelming support from district cricket associations."

Modi's loyalists met here on Monday and claimed the presence of 19 district units. The shift in power in state has resulted in many of the C P Joshi loyalists deserting him.

"Joshi had ignored cricket in Rajasthan. The game has taken a beating in the state. Joshi has not done anything for the game. I was hoping as a federal minister he (Joshi) would have done a lot but I am disappointed.

"We had worked very, very hard and it is about time we start getting our act together," Modi had stated earlier.

Earlier, the judge appointed by Supreme Court as principal observer, Justice Kasliwal announced that the elections of RCA will be held on December 19 while the nominations would be filed between December 14 and 16.

"The elections of RCA would be held on December 19 while the nominations would be filed between 14th to 16th December. The scrutiny would be done on 17th while 18th is the date for withdrawls. The polling would be held on 19th between 11 am to 2 pm. The results would be sent to Supreme Court in sealed envelope and would be declared later by the apex court," the judge appointed by Supreme Court as principal observer, Justice NM Kasliwal, announced .

Modi was banned for life by the BCCI from all cricket matters in India but the suspension was stayed by the Rajasthan High Court in October only to be pulled back recently.

Modi had announced his intention to run for the RCA president's post, and Modi's legal counsel had claimed that since the RCA was governed by the Rajasthan Sports Act, the BCCI ban was not applicable on the former BCCI vice-president.

This made the election scenario interesting because his faction claims to have support from 19 district units. The thumping majority of Bhartiya Janta Party (BJP) has also made the road more difficult for the Union Minister Joshi.

It is worth recollecting that it was with the then BJP CM Vasundhara Raje, that Sports Act was formulated to pave way for Modi and oust the Rungta clan from RCA in 2005 elections.

With Raje soon be taking over as Rajasthan CM, Modi seems to be regaining his foot hold in Rajasthan. It remains unclear whether he will fight the RCA elections from London.

There are 33 voters (districts) that make up the electoral list and only an office-bearer of a district association is eligible to contest the election. According to the Rajasthan Sports Act 2005 that governs the RCA, only the president, secretary and treasurer are the valid office-bearers.

पिकनिक मनाकर लौटी कॉलेज गर्ल्स

जयपुर। विद्याधर नगर स्थित बियानी गल्र्स कॉलेज के साइंस विभाग की 53 छात्राऔं का दल 9 दिन का इंन्डस्ट्रीयल विजिट कर लौटा। छात्राओं ने ट्यूर के दौरान बैंगलोर, मैसूर और ऊटी स्थित विभिन्न औद्योगिक संस्थानों की कार्यप्रणाली के बारे में जानकारी हासिल की।

छात्राओं ने इंडो-अमेरिकन हाइब्रिड सीड्स की इंन्डस्ट्री का भ्रमण किया और वहां की कार्यप्रणाली के बारे में जानकारी हासिल की। इसी के साथ उन्होंने भविष्य में बायोटेक से सम्बन्धित जॉब और रिसर्च क्षेत्र के विभिन्न अवसरों के बारे में जानकारी प्राप्त की। इसी के साथ भारत के सबसे बडे बोटनीकल गार्डन का भ्रमण किया। मोहम्मद षकील, मुनीष कौषिक, पारूल अग्रवाल और ज्योति कुमारी के निर्देषन में आयोजित इस विजिट के दौरान छात्राओं ने विभिन्न दर्षनीय स्थलों जैसे इस्कॉन टेम्पल और वृंदावन गार्डन का आनन्द भी उठाया। 

आरटेट-2013 स्थगित, 5.5 लाख प्रभावित


जयपुर। विधानसभा चुनावों के नतीजों के बाद शिक्षक भर्ती परीक्षाओं में रोजगार की आस लगाए बैठे युवाओं के लिए बुरी खबर है। राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने आगामी 29 दिसम्बर कोआयोजित होने वाली आरटेट परीक्षा स्थगित कर दिया है। 

बोर्ड ने परीक्षा को स्थगित करने के पीछे नेट व अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं को बताया गया है। जबकि परीक्षा के स्थगन के पीछे चुनावी नतीजों को भी माना जा रहा है। हालांकि,बोर्ड की ओर से इस दिशा में कोई अधिकारिक बयान नहीं आया है। 


उल्लेखनीय है कि टेट के लिए अब तक 5.50 लाख से अधिक आवेदन आ चुके हैं। और आगामी शिक्षा भर्तियों को लेकर टेट का यह एग्जाम महत्वपूर्ण माना जा रहा है। 

आगामी परीक्षा तिथि तय नहीं

शिक्षा विभाग ने 29 दिसम्बर को होने वाले टेट एग्जाम के लिए नई तिथि की घोषणा नहीं की गई है। जानकारों के अनुसार टेट की आगामी तिथि 2 से तीन महीने आगे खिसक सकती है। 

अब नहीं रहेगी मंत्रियों की "आन-बान-शान"


नई दिल्ली। कार पर लाल बत्ती लगाकर भीड़ में भी खास नजर आने का "स्टेटस" जल्द ही नेताओं और आला अधिकारियों से छिन सकता है। दरअसल, सुप्रीम कोर्ट ने गाडियों पर लाल व नीली बत्ती के लिए मंगलवार को नए दिशा निर्देश जारी किए।

सुप्रीम कोर्ट के अनुसार उच्च संवैधानिक पदों पर बैठे लोगों को ही अपनी गाड़ी पर लाल बत्ती लगाने का अधिकार होना चाहिए। वहीं नीली बत्ती सिर्फ आपात सेवाओं के लिए ही इस्तेमाल होना चाहिए।

सिर्फ इनकी गाडियों पर जलेगी "लाल बत्ती"

सुप्रीम कोर्ट के अनुसार लाल बत्ती सिर्फ उच्च संवैधानिक पदों पर बैठे लोगों की गाडियों पर ही लगी होनी चाहिए। जानकारी के अनुसार ऎसे उच्च संवैधानिक पदों की संख्या राज्यों में गिनती की है। मसलन, राज्यपाल, मुख्यमंत्री,विधानसभा का स्पीकर और राज्य का मुख्य न्यायाधीश। ऎसे में मंत्री,पुलिस अधिकारी सहित उन तमाम लोगों के लिए "स्टेटस सिम्बल" बनी यह बत्ती जल्द ही हट सकती है।

नीली बत्ती सिर्फ आपात सेवाओं के लिए

सुप्रीम कोर्ट ने आपास सेवाओं के लिए ही नीली बत्ती के इस्तेमाल की बात कही है। इस श्रेणी में एम्बुलेंस, पुलिस सेवा की गाडियां, फायरब्रिगेड की गाडियां आदि शामिल हो सकती हैं। उल्लेखनीय है कि फिलहाल कई सरकारी अधिकारी नीली बत्ती का इस्तेमाल अपनी गाडियों पर कर रहे हैं। 

सुप्रीम कोर्ट के जज को भी जरूरत नहीं

कोर्ट ने एक बार फिर कहा है कि लाल बत्ती का इस्तेमाल सुप्रीम कोर्ट के जजों के लिए भी जरूरी नहीं है। खुद सुप्रीम कोर्ट के जज अपनी कार से लाल बत्ती हटा कर इसकी नजीर पेश कर चुके हैं। ऎसे में हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट के जजों की कारों से भी जल्द ही लाल बत्ती हट सकती है।

3 महीने में अधिसूचना होगी जारी

सुप्रीम कोर्ट ने केन्द्र व राज्य सरकारों को निर्देश जारी कर कहा है कि इस दिशा में सरकारें 3 महीने के भीतर अधीसूचना जारी करें। इस अधीसूचना में यह तय हो जाएगा कि किन-किन अधिकारियों की गाडियों पर लाल बत्ती लगाई जा सकती है।

जादूगर गहलोत नहीं,राजस्थान की जनता है


चूरू। राजस्थान विधानसभा चुनाव में रिकॉर्ड जीत के बाद भाजपा की प्रदेशाध्यक्ष वसुंधरा राजे मंगलवार को पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि गहलोत जादूगर नहीं हैं,सबसे बड़ी जादूगर तो राजस्थान की जनता है। जनता ने चुनावी नतीजों में ऎसा जादूई परिणाम दिया कि जयपुर में बैठी सरकार धराशायी हो गई। 

राजे मंगलवार को चूरू में जनसभा को संबोधित करते हुए बोल रही थी। राजे ने भाजपा को वोट देने के लिए चूरू की जनता का आह्वान करते हुए कहा कि कुछ ही दिनों में प्रदेश को नई तस्वीर मिलेगी। राजे ने कहा कि गहलोत सरकार का क्या हाल होना है वो तो उनकी 14हजार किलोमीटर की सुराज संकल्प यात्रा के दौरान साफ हो गया था। यात्रा के दौरान हमने जनता का सरकार के प्रति गुस्सा साफ दिखाई दे रहा था। यही गुस्सा मतदान के दौरान दिखा और नतीजा आप के सामने है।

इससे पहले राजे ने कहा कि मैं यहां आपका आर्शीवाद लेने आई हूं। जो बहुत जोरदार,शानदार और एतिहासिक बहुमत आपने दिया है उसके पूरे प्रदेशवासियों का आभार। उन्होंने कहा कि इस रिकॉर्ड सफलता के बाद भी अभी चूरू का चुनाव बाकी है,लेकिन जो उत्साह मैं यहां देख रही हूं उसका परिणाम भी अब बाकी नहीं रहा है। 

राजे ने जनसभा को संबांधित करते हुए कहा कि मैं अभी-अभी रामदेवरा के दर्शन करके आई हूं,जहां मैंने आप सब की खैरियत की कामना की है।

राजेन्द्र सिंह राठौड़ ने इस मौके पर जनसभा में भाजपा को जिताने का आह्वान किया। राठौड़ ने कहा कि भाजपा को विजय बनाकर विकास में भागीदार बने,क्यों कि वसुंधरा राजे विकास का दूसरा नाम हैं। 

"दिल्ली में अभी राष्ट्रपति शासन नहीं"


नई दिल्ली। दिल्ली में त्रिशंकु विधानसभा के हालात में राष्ट्रपति शासन लगाए जाने और दोबारा चुनाव की अटकलों के बीच गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे का बयान लोगों को राहत देने वाला है। शिंदे ने दिल्ली में राष्ट्रपति शासन लगाए जाने की अटकलों को हाल फिलहाल खारिज कर दिया है। 

शिंदे के अनुसार दिल्ली में नई सरकार के गठन के लिए उप-राज्यपाल संभावनाएं तलाश रहे हैं और इसमें केन्द्र की कोई भूमिका नहीं है। उप-राज्यपाल पहले सबसे बड़े दल यानि भाजपा को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित करेंगे और भाजपा के इनकार करने की स्थिति में "आप"(दूसरे बड़े दल) को मौका दिया जाएगा। दोनों ही सरकार बनाने में दिलचस्पी नहीं दिखाएंगे तो उप-राज्यपाल दोनों दलों के मुख्य नेताओं(हर्षवर्घन और केजरीवाल) से मिलकर सरकार बनाने की कोशिश करेंगे। 

उप-राज्यपाल रिपोर्ट पर होगा फैसला
शिंदे के अनुसार उप-राज्यपाल की इन तमाम कोशिशों के बाद भी दिल्ली में सरकार बनने में दिक्कतें आई तो फिर वे कोई अपने निर्णय वाली रिपोर्ट गृहमंत्रालय को भेजेंगे।
इस रिपोर्ट में वे केंद्र को विधानसभा निलंबित करके राष्ट्रपति शासन लगाने की सिफारिश कर सकते हैं।

भाजपा नहीं करेगी "सरकार" के लिए पहल


नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी के दिल्ली विधायक दल के नेता हर्षवर्धन ने साफ कर दिया है कि भाजपा दिल्ली में सरकार बनाने के लिए अपनी ओर से काई पहल नहीं करेगी। हर्षवर्घन का यह बयान उनके विधायक दल के नेता बनते ही आया। 

उल्लेखनीय है कि भाजपा प्रदेश कार्यालय में मंगलवार को ही हर्षवर्घन को सर्वसम्मति से विधायक दल का नेता चुना गया है। इस पद पर चयन के बाद ही हर्षवर्घन ने यह बयान दिया है कि पार्टी की तरफ से सरकार बनाने के लिए पहल नहीं की जाएगी।

जोड़-तोड़कर सरकार नहीं बनाएंगे


हर्षवर्घन ने कहा कि चुनाव में भाजपा को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला है और वह इसे देखते हुए सरकार बनाने के लिए कदम नहीं उठाएगी। उन्होंने कहा कि भाजपा जोड़तोड़ कर सरकार बनाने में विश्वास नहीं करती है।

सरकार से चार कदम दूर है भाजपा


बता दें कि 70 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा को 31 सीटें मिली हैं। एक सीट भाजपा के सहयोगी शिरोमणि अकाली दल को मिली है। इस प्रकार भाजपा बहुमत के आंकडे 36 से चार कदम दूर है। उधर,आम आदमी पार्टी को 28 सीटें मिली हैं। जबकि कांग्रेस को 8, जनता दल (यू) को 1 और एक सीट पर निर्दलीय उम्मीदवार की जीत हुई है।

दिल्ली में "सत्ता का खेल", पलट गए भूषण


नई दिल्ली। दिल्ली में त्रिशंकु विधानसभा की मौजूदा परिस्थितियां और भी उलझती जा रही हैं। भाजपा को समर्थन देने पर सियासत गरमाती देख अब प्रशांत भूषण ने भी सुर बदल लिए हैं। एक टीवी चैनल पर बीजेपी को समर्थन देने की बात कहने वाले आप नेता प्रशांत भूषण अब अपने ही बयान से पलट गए हैं। प्रशांत ने कहा है कि आप और बीजेपी दोनों की विचारधारा अलग-अलग है और ऎसे में उनके साथ सरकार बनाना संभव नहीं है। वे न किसी को समर्थन देंगे और न ही लेंगे।

उल्लेखनीय है कि एक न्यूज चैनल पर प्रशांत भूषण ने बीजेपी को सशत्तü समर्थन देने की बात कही थी। लेकिन जैसी ही उनका बयान सुर्खियों में आया आप ने भूषण के बयान से किनार कर लिया। इसके बाद खुद भूषण भी मीडिया के सामने आए और बयान पर सफाई दी।

बता दें कि दिल्ली में सरकार बनाने के लिए अभी तक न तो बीजेपी और न ही आप ने रूचि दिखाई है। ऎसे में भाजपा और आप के बीच सांठ-गांठ के कयास लगाए जा रहे हैं। 

सफाई में क्या कहा प्रशांत भूषण ने

भूषण ने अपने पूर्व बयान पर कहा कि `मैंने एक काल्पनिक स्थिति पर बयान दिया था। मेरा कहना था कि बीजेपी यदि आम आदमी पार्टी की तरह बन जाए और हमारे सुझाए वैकल्पिक राजनीति और व्यवस्था परिवर्तन की राह पर चले, तो हम उसे समर्थन दे सकते हैं।" भूषण ने कहा कि "हमारी पार्टी का रूख तो पहले से ही साफ है। हम दोनों ही पार्टियों से न समर्थन लेंगे और न ही देंगे.`

पहले यह कहा था 

प्रशांत भूषण ने एक चैनल पर कहा था कि दिल्ली में सरकार बन सके इसके लिए आप भाजपा को मुद्दों पर आधारित समर्थन दे सकती है। उन्होंने यह भी कहा कि यदि भाजपा हमें लिखित में दे कि वो 29 दिसंबर तक जनलोकपाल बिल पास कर देंगे और साथ ही दिल्ली में जनसभा का गठन हो तो हम समर्थन दे सकते हैं।

भाजपा ने भी किया किनारा

आप के बाद भाजपा ने भी प्रशांत भूषण के सशत्तü समर्थन वाले बयान से किनार कर लिया है। सूत्रों के अनुसार इन शत्तोü पर यदि आप भाजपा को समर्थन देती भी है तो पार्टी इसे नहीं लेगी। 

दिल्ली में दोबारा चुनाव की तैयारी में भाजपा!


नई दिल्ली। दिल्ली में त्रिशंकु विधानसभा की परिस्थितियां अब करवट बदल दोबारा चुनाव की ओर बढ़ रही हैं। सबसे बड़े दल भारतीय जनता पार्टी ने इस दिशा में संकेत भी दे दिया है और अब जल्द ही उप-राज्यपाल इस विषय में बड़ा निर्णय ले सकते हैं। 

जानकारी के अनुसार भारतीय जनता पाटी ने अपने विधायकों और कार्यकतार्अा को दोबारा चुनाव के लिए तैयार रहने को कह दिया है। दिल्ली के विधायक दल की बैठक में सभी विधायकों ने दोबारा चुनाव के लिए अपनी सहमती दे दी है। भारतीय जनता पार्टी के महासचिव राजीव प्रताप रूडी के अनुसार हालात ऎसे बन रहे हैं कि दिल्ली में दोबारा चुनाव हों और ऎसी स्थिति में पार्टी फिर से चुनावी मैदान में उतरने को तैयार है। 

उल्लेखनीय है कि दोबारा चुनाव की अटकलों के बीच गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे ने दिल्ली में राष्ट्रपति शासन लगाए जाने की अटकलों को हाल फिलहाल खारिज कर दिया है। 

नजरे उप-राज्यपाल पर टिकी

दिल्ली में नई सरकार के गठन के लिए उप-राज्यपाल संभावनाएं तलाश रहे हैं और इस वक्त सबकी निगाहें उन्हीं पर टिकी हैं। उप-राज्यपाल अब पहले सबसे बड़े दल यानी भाजपा को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित करेंगे और भाजपा के इनकार करने की स्थिति में "आप"(दूसरे बड़े दल) को मौका दिया जाएगा। दोनों ही सरकार बनाने में दिलचस्पी नहीं दिखाएंगे तो उप-राज्यपाल दोनों दलों के मुख्य नेताओं(हर्षवर्घन और केजरीवाल) से मिलकर सरकार बनाने की कोशिश करेंगे। 

उप-राज्यपाल रिपोर्ट पर होगा फैसला

शिंदे के अनुसार उप-राज्यपाल की इन तमाम कोशिशों के बाद भी दिल्ली में सरकार बनने में दिक्कतें आई तो फिर वे कोई अपने निर्णय वाली रिपोर्ट गृहमंत्रालय को भेजेंगे। इस रिपोर्ट में वे केंद्र को विधानसभा निलंबित करके राष्ट्रपति शासन लगाने की सिफारिश कर सकते हैं।

आप के प्रशांत भूषण बयान से पलटे
भाजपा को समर्थन देने पर सियासत गरमाती देख अब प्रशांत भूषण ने भी सुर बदल लिए हैं। एक टीवी चैनल पर बीजेपी को समर्थन देने की बात कहने वाले आप नेता प्रशांत भूषण अब अपने ही बयान से पलट गए हैं। प्रशांत ने कहा है कि आप और बीजेपी दोनों की विचारधारा अलग-अलग है और ऎसे में उनके साथ सरकार बनाना संभव नहीं है। वे न किसी को समर्थन देंगे और न ही लेंगे।

भाजपा ने भी किया किनारा

आप के बाद भाजपा ने भी प्रशांत भूषण के सशत्तü समर्थन वाले बयान से किनार कर लिया है। सूत्रों के अनुसार इन शत्तोü पर यदि आप भाजपा को समर्थन देती भी है तो पार्टी इसे नहीं लेगी। 

कांग्रेस-भाजपा विधायकों को "आप" का न्योता

नई दिल्ली। दिल्ली में आम आदमी को "आप"(आम आदमी पार्टी) से जोड़ने वाले अरविंद केजरीवाल ने अब चुनावी रण में जीत हासिल करने वाले कांग्रसी और भाजपाई विधायकों को खुला न्यौता दिया है। भाजपा के दोबारा चुनाव के संकेतों के बाद केजरीवाल ने मंगलवार को कहा है कि जो विधायक अपनी पार्टी में घुटन महसूस कर रहे हैं वे हमारे साथ आ सकते हैं।

उल्लेखनीय है कि आप को दिल्ली में सरकार बनाने के लिए 7 विधायकों की दरकार है और उसने भाजपा व कांग्रेस के साथ हाथ मिलाने इनकार कर दिया है। ऎसे में दोबारा चुनाव या राष्ट्रपति शासन की नौबत आ पहुंची है। इन परिस्थितियों में केजरीवाल ने नया सियासी पासा फैंकते हुए कहा है,"ऎसे विधायक जो अपनी पार्टी में घुटन महसूस कर रहे हैं और सरकार बनाने में विश्वास करते हैं। उनका हमारी पार्टी में स्वागत है।"


भाजपा ने विधायकों को किया अलर्ट


भारतीय जनता पार्टी की ओर से दिल्ली में अब दोबारा चुनाव के आसार को लेकर अलर्ट कर दिया है। मंगलवार को ही दिल्ली के विधायक दल की बैठक में पार्टी ने साफ कर दिया कि वे सरकार बनाने की पहल नहीं करेंगे। ऎसे में दोबार चुनाव की स्थिति में सभी उम्मीदवार और कार्यकर्ता तैयार रहें।

भाजपा बोली जोड़-तोड़ की सरकार नहीं


हर्षवर्घन ने कहा कि चुनाव में भाजपा को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला है और वह इसे देखते हुए सरकार बनाने के लिए कदम नहीं उठाएगी। उन्होंने कहा कि भाजपा जोड़तोड़ कर सरकार बनाने में विश्वास नहीं करती है। बता दें कि 70 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा को 31 सीटें मिली हैं। एक सीट भाजपा के सहयोगी शिरोमणि अकाली दल को मिली है। इस प्रकार भाजपा बहुमत के आंकडे 36 से चार कदम दूर है। उधर,आम आदमी पार्टी को 28 सीटें मिली हैं। जबकि कांग्रेस को 8, जनता दल (यू) को 1 और एक सीट पर निर्दलीय उम्मीदवार की जीत हुई है।

जयपुर में गणगौर माता की सवारी के दौरान रहेगी यातायात की विशेष व्यवस्था

पुलिस उपायुक्त यातायात श्री हैदर अली जैदी ने बताया कि प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी गणगौर माता की सवारी 30 एवं 31 मार्च को साय 6 पी.एम पर न...