Facebook Data Extractor | Justdial Data Extractor

For more info:

Call us:- Mularam +91-7230007458

Web:- http://dataextractorx.com

Mail :- mediapluswapp@gmail.com




Our Youtube Account:- https://www.youtube.com/watch?v=lrir2UpcYdU





Facebook Data Extractor 7

Justdial Data Extractor 7

Google Map Data Extractor 7







Facebook Data Extractor :-

Facebook Data Extractor is a automated tool that enables you to extract the profile information, fan pages, like pages, user email from facebook worlds most popular social networking website. This is an efficient tool and helps individuals in completing the task of collecting information from facebook in minimum time.




Justdial Data Extractor :-

Our Justdial Data Extractor is a Easy to use, versatile, lightweight and powerful Justdial Data scraper tools. Justdial Data Extractor Contact Scraper is software that extracts information such as business names, address, phone numbers, emails from Justdial.




Google map data Extractor :-

Google Map Data Extractor– Extract Google Business Public Data Location Wise

Our Google Maps extractor is a Easy to use, versatile, lightweight and powerful Google Maps scraper tools. Google Maps Contact Scraper is software that extracts information such as business names, address, phone numbers, websites from Google maps.

जोधपुर के बाद अलवर में एस्कॉर्ट के नाम पर जिस्मफरोशी का धंधा

राजस्थान की सूर्यनगरी जोधपुर के बाद सोमवार अलवर में ऑनलाइन सेक्स कारोबार का बड़ा खुलासा हुआ. अलवर पुलिस ने अवैध सेक्स रैकेट का भंड़ाफोड़ करते हुए संचालक दलाल, ड्राइवर और जिस्मफरोसी में लिप्त दो युवतियों को गिरफ्तार किया है. अलवर पुलिस के अनुसार यूपी के गुरुग्राम से निमराणा एस्कॉर्ट नाम से ऑनलाइन गोरखधंधा चल रहा था. आरोपी दलाल अलवर में दो लड़कियों को लेकर एक होटल में पहुंचा था जहां पहले से मौजूद पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया.


12 हजार रुपए एक लड़की के तय

आरपीएस लोकेश मीणा के अनुसार जिस पर पुलिस ने फर्जी ग्राहक बनकर मुखिया से संपर्क बनाया, जिस पर पहले बुकिंग के नाम पर दो हजार रुपये मांगे गए लेकिन एक हजार रुपए एडवांस बुकिंग के देने के बाद एक लड़की के 12 हजार रुपए में सौदा तय हुआ. इस तरह से दोनों लड़कियों के 24 हजार रुपए दिए गए.

जोधपुर में जयपुर एस्कॉर्ट के नाम से धंधा
जोधपुर में गुरुवार को ऐसे ही ऑनलाइन जिस्मफरोशी के धंधे का पर्दाफाश हुआ था.एसीपी राजेश कुमार ने बताया कि यह रैकेट ऑनलाइन वेब साईट के जरिए पूरे राजस्थान में देशी-विदेशी लड़कियां सप्लाई करता है. इसी के तहत बुक होकर बुधवार को यह रशियन लड़की जयपुर से सड़क मार्ग के जरिए जोधपुर आई थी.

जीका वायरस भारत में भी आ चुका है, ये मच्छरों के काटने से फैलता है. इससे बचने के लिए क्या करें?

क्या है जीका वायरस, जो नवजात और युवाओं को बनाता है शिकार
ये वायरस आमतौर पर गर्भवती महिलाओं को संक्रमित करता है. पिछले दो तीन सालों में इसके अफ्रीका में व्यापक तौर पर फैलने की खबरें आईं थीं. आपको बता दें कि जीका वायरस दुनियाभर में फैल चुका है. 86 देशों में इसके होने की पुष्टि हो चुकी है. भारत में पिछले साल जनवरी और फरवरी में पहली बार इसके अहमदाबाद में होने की बात पता चली थी. राजस्थान की राजधानी जयपुर में 22 लोगों के जीका वायरस से संक्रमित होने की खबर मिली है. माना जा रहा है कि ये वायरस देश के कई और हिस्सों में लोगों को संक्रमित कर चुका है. बिहार और तमिलनाडु में भी इसके होने की बात कही जा रही है.
क्या होता है जीका वायरस?
जीका वायरस फ्लाविविरिडए वायरस फैमिली से है. ये मच्छरों से ही फैलता है. ये वायरस दिन में ज्यादा सक्रिय रहता है. खासकर गर्भावस्था में महिलाएं इससे ज्यादा संक्रमित हो सकती हैं


क्या हैं खतरे

माइक्रोकेफेली : इससे प्रभावित बच्‍चे का जन्‍म आकार में छोटे और अविकसित दिमाग के साथ होता है. ये गर्भावस्था के दौरान वायरस के संक्रमण से होता है. इसमें शिशु दोष के साथ पैदा हो सकता है. नवजात का सिर छोटा हो सकता है. उसके ब्रेन डैमेज की ज्यादा आशंका होती है. साथ ही जन्मजात तौर पर अंधापन, बहरापन, दौरे और अन्य तरह के दोष दे सकता है.
ग्‍यूलेन-बैरे : सिंड्रोम शरीर के तंत्रिका तंत्र पर हमला करता है और इसके चलते लोग लकवा का शिकार हो जाते हैं.हालांकि ये स्थिति स्थायी नहीं होती. युवा लोग इसका शिकार बन सकते हैं. ये न्यूरोलॉजिकल जटिलताएं भी दे सकता है.
क्या हैं इसके लक्षण
- बुखार
- जोड़ों का दर्द
- शरीर पर लाल चकत्‍ते
- थकान
- सिर दर्द
- आंखों का लाल होना
- यानि जो लक्षण डेंगु और वायरल के हैं, वही इस बीमारी के भी हो सकते हैं. लेकिन इसके वायरस का आरएनए अलग तरह का होता है.

किन मच्छरों से ये फैलता है

- ये एडीज प्रजाति के मच्छरों के काटने से ही फैलता है. ये मच्छर दिन में ही काटते हैं. खासकर सुबह जल्दी, दोपहर बाद और शाम को
और किन तरीकों से ये फैल सकता है
- खून चढाने
- शारीरिक संबंधों से
क्या है इतिहास
पहली बार इसका पता 1947 में चला. ये अफ्रीका से एशिया तक फैला हुआ है. ये 2014 में प्रशांत महासागर से फ्रेंच पॉलीनेशिया तक और उसके बाद 2015 में यह मैक्सिको, मध्य अमेरिका तक भी पहुंच गया.
नाम जीका क्यों पड़ा?
वर्ष 1947 में वैज्ञानिक पूर्वी अफ्रीका के पीले बुखार पर शोध कर रहे थे. ये शोध अफ्रीका में जीका के जंगल में रीसस मकाक (एक प्रकार का लंगूर) को पिंजरे में रख कर किया जा रहा था. उससे वैज्ञानिकों को जीका वायरस का पता चला. 1952 में इस रहस्यमय बीमारी को जीका वायरस का नाम दिया गया. वर्ष 2007 में इसका प्रभाव फिर देखने को मिला ये वायरस अफ्रीका में फैलने लगा. पहले इसे लक्षणों के कारण डेंगू या चिकनगुनिया ही समझा गया. बाद में जब बीमार लोगों के खून का परीक्षण किया गया तो खून में जीका वायरस का आरएनए पाया गया.
इसका टेस्ट किस तरह हो सकता है
- खून, मूत्र और लार से इसका टेस्ट हो सकता है
बचाव कैसे करें
- मच्छरों के काटने से बचें
- शरीर का अधिकतम हिस्सा ढंक कर रखें
- मच्छरदानी का प्रयोग करें
- मच्छर पुनर्जनन रोकने हेतु ठहरे पानी को इकट्ठा नहीं होने दें
- बुखार, गले में खराश, जोड़ों में दर्द, आंखें लाल होने जैसे लक्षण नजर आने पर अधिक से अधिक तरल पदार्थों का सेवन और भरपूर आराम करें.
- स्थिति में सुधार नहीं होने पर फौरन डॉक्टर को दिखाना चाहिए
क्या इसका कोई कारगर टीका है
- अब तक इसका कोई कारगर टीका नहीं है
- हालांकि इसका कोई खास उपचार नहीं है, तब भी पैरासीटामॉल (एसिटामिनोफेन) मददगार हो सकती है
गर्भवती महिलाओं को बचाव कैसे करें
- ब्राजील के स्वास्थ्य अधिकारियों ने 2015 में प्रकोप से दंपत्तियों को गर्भधारण से बचने की सलाह दी थी
- और गर्भवती महिलाओं को उन इलाकों में यात्रा करने से बचने की सलाह दी जहां प्रकोप फैला हो
जयपुर यानी भारत से पहले कहां-कहां फैला
अब इसका फैलाव ब्राजील समेत कई दक्षिण अमेरिकी देशों में हो चुका है. माना जा रहा है कि 80 से ऊपर देश इसकी चपेट में हैं.

Rajasthan Day: अल्बर्ट हॉल म्यूजियम पर आयोजित सांस्कृतिक संध्या


राजस्थान दिवस समारोह के तहत बुधवार शाम को अल्बर्ट हॉल म्यूजियम पर सांस्कृतिक संध्या आयोजित हुई. इसमें मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने भी शिरकत की. उनके साथ राजस्थान दिवस समारोह की मुख्य अतिथि भूटान की राजमाता आशी दोरजी वांग्मो वांगचुक भी मौजूद रहीं.

जयपुर में गणगौर माता की सवारी के दौरान रहेगी यातायात की विशेष व्यवस्था



पुलिस उपायुक्त यातायात श्री हैदर अली जैदी ने बताया कि प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी गणगौर माता की सवारी 30 एवं 31 मार्च को साय 6 पी.एम पर निकाली जायेगी। गणगौर माता की सवारी जनानी ड्योढी से रवाना होकर त्रिपोलिया बाज़ार, छोटी चौपड, गणगौरी बाजार होते हुए चौगान स्टेडियम पहुँचेगी। यातायात को सुगम एवं सुव्यवस्थित रूप से संचालित करने हेतु यातायात की विशेष व्यवस्था की गयी है। यातायात व्यवस्था इस प्रकार से रहेगी-

जयपुर में गणगौर माता की सवारी के दौरान रहेगी यातायात की विशेष व्यवस्था

पुलिस उपायुक्त यातायात श्री हैदर अली जैदी ने बताया कि प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी गणगौर माता की सवारी 30 एवं 31 मार्च को साय 6 पी.एम पर न...